कौन से पुरूष भगवान को प्रिय है!!

  श्रीमद्भागवतगीता में श्रीकृष्ण अर्जुन से कहते है:- “यो न हृष्यति न द्वेष्टि न शोचति न काङ्‍क्षति। शुभाशुभपरित्यागी भक्तिमान्यः स

Read more
Skip to toolbar